कार का यशोगान ( हास्य- व्यंग्य रचना)

                          चंचला , चपला ,  रंग -रंगीली ,
                                  द्रुत  गति  गामिनी  कार ,
                          मात्र  धनिक वर्ग ही नहीं ,
                                   अब हर वर्ग  कि चहेती कार।
                          वोह  ज़माना गया जब  ,
                                  गऊ  खड़ी  होती थी द्वार ,
                          अब मुख्य द्वार  कि शोभा  बढ़ाये ,
                                   चतुर्थ चक्र वाहिनी  कार।
                           हसरत  भरी निगाह से  देखा करे ,
                                      आते -जाते  मुसाफिर ,
                            रोक   कर  अपने  क़दमों  को ,
                                       अपने अनुमान लगाएं फिर।
                           कौन सा  मॉडल है ? ,
                                       किस कंपनी कि  है भाई !
                           टाटा , मारुती , हौंडा ,
                                       या फिर  हुंडई।
                             क्या रंग है , क्या  बनावट है ,
                                       कितनी  ज़बरदस्त  है  भई !
                             लाखों  कि  या करोड़ों  कि ,
                                        होती  है यह  मनमोहिनी ,
                             तभी  तो अपने  नाज़  उठवाती है ,
                                        यह   नाज़नीन  गामिनी।
                             ठोक  जाये  गर  इसे सड़क पर ,
                                       तो मालिक  का चढ़ जाता है पारा।
                             खुद लग जाये  चोट मगर
                                       इस पर  खरोंच  नहीं गवारा।
                               होती  है   यह  मालिक कि जान ,
                                       और सिर्फ  जान ही नहीं,
                                    यह  है उसकी  आन ,बान ,शान।
                               दौड़ती  है जब  सड़क पर  ,
                                              अपने पुरे   वेग से ,
                                मुसाफिरों  कि दिल भी ,
                                             धड़कता  है पुरे वेग से।
                                 रास्ता  छोड़ कर  किनारे
                                               हो  जाते  है  मानिनी  के लिए ,
                                कभी  डर  से ,कभी आदर से ,
                                                 इस अभिमानी  के लिए।
                                क्योंकि  पता  है ,
                                                   यदि  ना छोड़ा मार्ग तो ,
                                   यह क्या करेगी।
                                   हार्न  बजा-बजा कर पागल  ,
                                            कर देगी ,वर्ना ‘उड़ा’  देगी।
                                    उड़ाने  को तो  माहिर है ,
                                             यह नटखट ,
                                     फागुन से पहले ही  होली खेले ,
                                             यह कीचड़  कि ,लाज न इसे  आये।
                                     खुद गन्दी  होकर   खुद को  तो
                                                 महंगे  सर्फ़ से धुलवाए।
                                     मगर  हम कहाँ जाये !
                                                 इसके सितम के मारे ,
                                     हम  कपड़ों  से दाग   छुड़ा -छुड़ा के मर जाएँ।
                                               सुना   है हमने  अपने  बड़े -बूढ़ों से ,
वाहन  का शौक  है  सदियों पुराना।
चौसंठ  करोड़  देवी-देवताओं में ,
हर कोई था   अपने  -२  वाहन का दीवाना।
मगर  अब जब देखते होंगे ,
इस  भाग्य -शालिनी को ,
तो ज़रूर सोच रहे होंगे ,
यार कितने  advance है  यह मृत्युलोक वाले ,
इनके पास है  सुंदर ,चम-चमाती चौपाया ,
और हमारे  पास वही  पुराने ,
मोटे भेंसे ,  शेर ,  चूहे ,  मोर , या  बैल   चौपाया।
यार !  हमें भी  अब बदलना  होगा ,
छोड़ो  यह  फैशन  पुराना ,
और नए से नाता   जोड़ो।
जायो  सेवकों ,सिपाहियों ,
शीघ्र ही हमारे लिए ,
हौंडा सिटी  बुक  करवायो।
इस तरह  मृत्यु  लोक कि देखा-देखी ,
स्वर्ग लोक  में  भी  आ गया इन्केलाब।
इस  चंचल ,चतुर  ,चपला ,
द्रुत  गति गामिनी कि  सब  जय जय कार करो
जनाब !

Leave a Reply