जय हो कंप्यूटर देवता ! (हास्य-व्यंग्य कविता)

   जय  हो कंप्यूटर  देवता  !   (  हास्य-व्यंग्य  कविता) 
                जबसे   हमारे  घर  पधारे  हैं  आप ,
                हमारी तो पूरी दुनिया ही बन गए  आप  
               गर बन गए  आप ही दुनिया तो और कहाँ जाएँ ?
               आप को  छोड़  कर  अब और कहाँ दिल  लगाएं ?
               दिल लगा है आपसे कुछ ऐसा ,कि कुछ मत पूछिए ,
               आप ही इश्क़ है  आप ही इबादत ,औरों को छोड़िये।
 
               अब क्यों  मरते हैं हम आप पर वजह तो  पूछिए ,
              आप है ज्ञान का भण्डार और साहित्य -संगीत का संगम ,
             आप से ही तो  मिलता  है हमें  सारे  जहाँ का इल्म। 
              अब छोड़  के  ऐसे में आपका  दर  बताइये कहाँ जाएँ ,
            हर शय प्यारी लगे  आपके पहलु में और कहीं समय क्यों गंवाएं।
 
             आपका  सुंदर मुखड़ा   देख  के  फंस  गए हम  आपके net में ,
             Facebook , LinkedIn, Google जैसे social network में। 
             चार दिवारी  के बाहर  भी  एक  संसार ,हमें नहीं कोई सरोकार ,
             भाड़  में  जाये  ! यहाँ एक हम है और एक आप हैं सरकार !
              सरकार ! आपकी बदौलत ही तो आया है हमारे जीवनमें इन्केलाब ,
              Upload, Download, Like, Comments वैगेरह यह आप ही हैं जनाब !
              भूल चुके थे  अपनी  पहचान ,तो आपने ही पहचान दिलवायी ,
              बनवाके एक अदद Profile, हमारी आपने life बना डाली। 
               कैसी होती है दोस्ती और दोस्ती के उसूल ,हमें पता न था। 
              ना किसी कि   सालगिरह  न जनम दिन कुछ भी पता ना था 
              माबदौलत !  आपकी  मेहरबानी  से यह क़ाबलियत  हममें आ गयी ,
               आपकी सोहबत हुआ ऐसा असर कि  अक्ल  हममें आ गयी। 
               कंप्यूटर जी !  आपने ही तो  हमें हमारे फन के कद्र दान दिलवाये , 
                सुनने को जो तैयार ना होता था एक शायरी, तो ग़ज़ल को Like दिलवाये। 
                अब जब आपने  किये हम पर इतने उपकार ,तो क्यों ना आप प्यारे लगें ,
                 देखिये कंप्यूटर जी ! दुनिया कहे आपको बला तो क्या आप मत सुनना  ,
                  है  यह आपका  भी दीवाना , तो आप ध्यान मत  देना ,
                  चाहे नेता -हो या अभिनेता ,या  पूरी जनता  ,
                   इन सब का  बहुत मुश्किल है  आपसे दाम छुड़ाना।  
                   जय हो  कंप्यूटर देवता ! आप अपनी कृपा यूँ ही  बरसाए रखना।  

2 Comments

  1. admin चन्द्र भूषण सिंह 06/04/2014
    • Onika Setia Onika Setia 06/04/2014

Leave a Reply