खड़ा हु उस मंजर पर (POEM NO. 8)

Poems in Hindi http://www.hindisahitya.org
खड़ा  हु  उस  मंजर  पर  जहा  कोई  सहारा  देने  वाला  नही
टूट  जाऊँगा  कभी  भी  कोई  थामने  वाला  नहीमरूँगा  सान   से   पर  जिंदिगी   भर  किसी  के  सहारे  की  जरूरत  नहीं  थी  मुझे
जिया  सान   से  मारा  भी  सान  से  आज  मुझे  किसी  की  जरूरत  नहीजो  आया  मुझे  इस्तेमाल  किया  मेरे  पास  बेठा  पर  किसी  ने  मुझे  पहचाना  नही
कोई  देख  लेता  अपने  गम  में  मेरा  भी  गम  तो  समझ  पता  मुझे

दर्द  के  दरिया   में  अकेला  हु  सब  ने  चाहा  पर  किसी ने  अपनाया  नही  मुझे

Leave a Reply