रोक पाएंगीं क्या ………

एक ग़ज़ल : “रोक पाएंगीं क्या ………”

रोक पाएंगीं क्या सलाखें दो-?
जब तलक हैं य’ मेरी पांखें दो ।

जिसने सबको दवा-ए-दर्द दिया-
आज वो माँगता है- साँसें दो ।

चाह कर भी निकल नहीं सकता-
मुझको घेरे हुए हैं बाँहें दो ।

वो इबादत हो या की पूजा हो-
एक मंजिल है और राहें दो ।

मुझको कोई बचा नहीं पाया-
मेरी कातिल- तुम्हारी आँखें दो ।

या तो आंसू मिलें, या तन्हाई-
एक जुर्म की नहीं सजाएं दो ।

Leave a Reply