हुँकार कर

काधा राधा नगरी में ललकारे के होई ?
अपनी ही धरती से पुकारे के होई ॥
लरिकन के लड़ाई से निकारे के होई।
मनवालो को सेना ने उतारे के होई ॥
आजाद भगत कामिल पुकारे के होई ।                                                                                                         अब्दुल हमीद वीरता संवारे के होई ॥

जी पटेल को फिर से निहारे के होई ।
राजा कंश को रण में ललकारे के होई ॥

One Response

  1. Sukhmangal Singh sukhmangal singh 13/08/2017

Leave a Reply