मेरी कलम

                मेरी  कलम  (कविता)

 

                                  तू   जब भी  आती  है  ,

                                  मेरे   हाथों  में ,

                                मेरी उँगलियों  में ,

                                  समां सी जाती है।

                              कभी   जज़बातों  की

                                 नदी सी बन ,

                              उत्तर  आती  है ,

                                सफ़ेद  ,सादे  कागज़ पर।

                              तो कभी  आँखों से निकल कर ,

                                 दर्द  के लिबास  में ,

                               आंसुओं   के साथ  बह जाती है ,

                                किसी झरने सी।

                                  किसी पागल नदी सी तू ,

                                 जो अपने  उन्माद में ,

                                  तोड़-फोड़ कर सब किनारे ,

                                   अविरल सी  बह  जाना चाहती है।

                                    मेरी   पीड़ा ,  कुंठा,  संताप ,

                                     को  लफ़्ज़ों  का जामा  पहनाकर ,

                                    तू   घुटन  के हर  पहाड़  को ,

                                       तोड़ डालना चाहती है।

                                    तू   है  बिलकुल आज़ाद ,

                                        समय  का तुझपर कोई  बंधन नहीं।

                                     ऐसा प्रयत्न  भी  वोह करने कि ,

                                        सोच भी नहीं सकता।

                                      समाज भी तुझपर पहरा नहीं  लगा सकता ,

                                         और ना कभी लगा पाया  .

                                       तू है  निरंकुश ,

                                         तू है  स्पष्टवादी ,

                                         सत्य   हो जिसका  अधिकार ,

                                           उसे  आगे बढ़ने  से क्या रोक कभी

                                         पाया है कोई ?

                                          सच  बतायूं !  तेरे  पहलु में

                                          आकर   मैं भूल जाती हूँ सब।

                                         क्या लोक-व्यवहार ,

                                           क्या दैनिक  क्रिया-कलाप ,

                                           और क्या रिश्ते -नाते ,

                                           सब कुछ भूल जाती  हूँ।

                                           और  हो भी क्यों  ना ऐसा ,

                                            मुझे तेरा  मजबूत साथ  जो मिला ऐसा।

                                            तू आई मेरे जीवन में  जबसे ,

                                            मुझे  ज़िंदगी जीने का कोई  मकसद मिला।

                                             तुन ही तो मुझे  एक रचनाकार

                                             बनने  का सौभाग्य प्रदान  किया।

                                             तू है मेरी ख़ुशी ,

                                            मेरा आनंद ,

                                           मेरा गम भी ,

                                            मेरा  आत्म-विश्वास है तू ,

                                            है तू मेरा स्वाभिमान भी।

                                             तू ही मेरी प्रेरणा।

                                            मेरी  ग़ज़ल,

                                            मेरी कविता,

                                            है मेरी आप बीती ,

                                            मेरे  ह्रदय  में  उठते  संवेगों को

                                            भवनाओं   को,

                                           मेरे ज़ेहन  में   हर घडी  तूफ़ान

                                            मचाने वाले  विचारों को ,

                                             कशमकश को  सही दिशा देने वाली ,

                                               मेरी  प्रिये  सहचरी है ,

                                            तू मेरी कलम !

 

Leave a Reply