चुनाव का मौसम है आया !

  चुनाव  का मौसम  है  आया !  (  हास्य-व्यंग्य कविता)

                       चुनाव  का मौसम   है  आया ,

                       शरारत  करने  का मन ललचाया ,

                       नेताजी  कि कुर्सी का। …

 

                       आगे  कुर्सी ,पीछे कुर्सी ,

                       चारों  ओर दिखे कुर्सी ही कुर्सी ,

                        देखो  तमाशा  कुर्सी का। …….

 

                       नेता  जी जब सोने  जाएँ ,

                       करवटों  में रात  गुज़र जाये,

                       नींद  भी आने  ना दे नशा कुर्सी का। ……

 

 

                     गर   आ भी जाये  भूल से नींद ,

                     तो भी  रहती  है  यह उम्मीद ,

                      काश !   सपना  आ जाये  कुर्सी का। ……

 

                     ५ साल तो  अकड़ के  में  घूमें ,

                      ऐशो-आराम  कि मस्ती  में झूमें ,

                     अब  तलवे चटवाए लालच कुर्सी का। …….

 

                     बैठी मनमोहिनी मंच पर मुस्काये ,

                     चाहे   नेता  परस्पर लड़-मर जाये ,

                      मगर  ज़ालिम को  तरस  ना आये ,

                      यही तो  अनोखा style  है  कुर्सी का। …।

 

                      आखिर बेचारी  कुर्सी  भी क्या करे ?

                      किसको  छोड़े ,किसका  वरण करे ,

                      आशिक़ों  के झुंड में  फंसा है  दिल  कुर्सी का। ….

Leave a Reply