तुम्हारी याद लिखी है

तुम्हारे प्यार कि यादें तुम्हारे बाद लिखी है !
जो बाकी रह गई दिल में सनम वो बात लिखी है !!

लिखी हमने बहुत नज़मे तुम्हारे प्यार कि लेकिन !
जो अब तक भी न लिख पाये नज़म वो आज लिखी है !!

मिले थे आप जब मुझसे वो मौसम याद है मुझको !
हमारे प्यार कि पहली वाही बरसात लिखी है !!

तुम्हारा रूठना मुझसे मेरा अक्सर मन लेना !
जिसे सुनती थी तुम अक्सर वही आवाज़ लिखी है !!

चले आये शहर को छोड़ कर तेरी जुदाई में !
जो रोते, रोते गुज़री थी सनम वो रात लिखी है !!

कलम जज़्बात का लेकर भरा अस्कों कि सियाही से !
सनम कुछ इस तरह हमने तुम्हारी याद लिखी है !!

फ़साना मत समझना तुम मेरे शेर ओ शायरी को यारों !
जो गुज़री है हमारे साथ वही हर बात लिखी है !!
I Written By Shakti |

http://www/facebook.com/shaktideena1989

Leave a Reply