दिल चाहता है

हवा खुशनुमा वादियां भी हंसी है !
तुझे याद करने को दिल चाहता है !!
मेरा आज सब दूरियों को मिटाकर !
तेरे पास आने को दिल चाहता है !!

ये तन्हायिां रात भी चांदनी है !
तेरे पास आने को दिल चाहता है !!
तुझे अपनी बाँहों के घेरे में ले कर !
कुछ सुनने, सुनाने को दिल चाहता है !!

वो नगमा जिसे सुनके तू मुस्कुराये !
उसे गुनगुनाने को दिल चाहता है !!
मुह्हबत कि सारी हदों को भुलाकर !
तुझे प्यार करने को दिल चाहता है !!

सभी चाहतों के समुंदर में शक्ति !
मेरा डूब जाने को दिल चाहता है !!

http://www.facebook.com/shaktideena

Leave a Reply