रास्ते

डिगे भी हैं
लड़खड़ाई भी
चोटें भी खाई कितनी ही

पगड़ंडियां गवाह हैं
कुदालियों, गैंतियों या
डाईनामाईट ने नहीं
कदमों ने ही बनाए हैं रास्ते

Leave a Reply