होली पर एक मुक्‍तक

होली पर एक तुच्‍छ मुक्‍तक

फिजा में रंग कुछ इस तरह मिला दो

दिलों की सारी कडवाहट मिटा दो

हर तरफ नजर आये खुशियॉं ही खुशियॉं

इस होली हर जाति,धर्म नस्‍लभेद तुम मिटा दो

अविनाश कुमार

Leave a Reply