कुछ शेर

१-सच कहुँ तूने मेरे दिलको तो दुखाया था
ये और बात है कोई गवाह नहीं है मेरा

२-अजीब सा इत्तेफाक था हमारा मिलना भी यारो
मौत का बुलावा आया दोनों को एक ही जगह

३-क्यूँ ऐसे हारते हो तुम हौसला रखिए मैं हुँ ना
वलवान वक्त के आगे आँखें बचा के चलना है

४-मुलाकात क्या हुयी के हमसफर हो गए उन के
क्या करते कर दिया दिल ने इनकार लौटने से

५-अजीब सी परेशानियाँ घेर लेतीं हैं दिवानों को
अक्सर वो जीते हैं सभी सपनों की सरहदों में

६-मिलता नहीं उस को कभी सम्मान इस दुनियाँ में
जिस शख़्स की नहीं है कोइ पहचान इस दुनियाँ में

७-आसानी आराम से जीना आता नहीं इन्सानों को
कुरेदते रहते हैं सभी परेशानियाँ तेरि मेरी

८-अजब सी मुस्किलें मेरी इधर भी हैं उधर भी हैं
एक जां है चाहने वाले इधर भी हैं उधर भी हैं

९-कैसे बनुँ यारा तेरा जहाँ में और् भी हैं बहुत्
मेरे नादां दिल की खबर रखते हैं और भी बहुत

१०-तुम्हारे बेजान् दिल का हवाला दे के कहते हैं
एक दिन् हमारे सिवा तुम्हारा कोइ न होगा

११-हमारी चाहत् का निशां तुम्हारे लहजे में मिला
खुदा से मन्नत है मेरी तोहफा है सलामत् रखना

१२-जरुर् खयाल् रखते होंगे शीसे के घर् बनाने वाले
ओलों की बरसात में कैसे बचाएंगे मकां अपना

१३-तमाम् मेरे इरादे भी मुकर के रहने लगे
एक तुम हो क्या देखा के आसपास रहते हो

१४-गल्तियाँ हैं पहले कभी इस तरह नहीं की मैंने
तुम्हारा जो दीदार हुआ आप से आप होने लगीं

Leave a Reply