उफ़ ! यह बिजली के नखरे (हास्य-व्यंग्य कविता)

   उफ़ !  यह बिजली  के नखरे  (हास्य-व्यंग्य कविता)

 

                                     पल भर  के लिए  ,

                                             यह जब चली  जाये।

                                    यूँ  लगे  तन  से  ,

                                              यूँ   जान  चली जाये।

                                    चिराग   सारे  उम्मीद के ,

                                              जो  बुझा जाये ,

                                   घर में  तो  क्या ,

                                          ज़िंदगी  में भी अँधेरा छा जाये।

                                    गुलिस्तां  से जैसे  बहारें  ,

                                            रूठ   जाया करे ,

                                     यह भी  हमसे  यूँ ही

                                           रूठ  जाया  करे।

                                     क्यों  रूठी  है , किस बात  पर रूठी है ,

                                          हमारी तो कुछ  समझ में ना   आये।

                                     इंतज़ार  हम क्या करते है ,

                                          यूँ समझो  अँधेरे  में तीर छोड़ते हैं।

                                      इसी दौरान  कभी खुदा  से दुआ ,

                                           तो कभी इसे मनाया करते हैं।

                                      दीवानगी  में  हम  दोस्तों !

                                          जाने  क्या-क्या करते  हैं।

                                      तरह -तरह  के बहाने  इसके

                                            मज़बूरी  में  सहते  हैं।

                                      क्या   करें  ,इसके चले  जाने से

                                             हमारे  सारे  काम  जाते हैं।

                                       यूँ लगता  है  कभी-कभी  ,

                                               हम  हैं  चाभी  के  खिलौने ,

                                       बस इसके चलाने  से चलते -रुकते हैं।

                                               हमारी  ज़िंदगी   है  यह  आखिरकार ,

                                        हमारे  home -appliance  कि भी जान  .

                                                        इसी में   है अटकी।

                                        इतनी दीवानगी ! उफ़!

                                                 यूँ लगे  जैसे  यह कोई मेहबूबा  हो कोई ,

                                         जिसकी आदत  है  बार-बार रूठके  जाने की।

                                              और रूठ के  कभी ना आने  की।

                                          या कभी यूँ  लगे  बड़ी देर  हो गयी  ,

                                                अभी तक ना आयी ,

                                            ”कही दिल तो ना लगा बैठी” ,

                                                   या  कहीं  अपनी आँखें  चार कर  बैठी है।

                                              कुछ  हमारा  ख्याल किया होता ,

                                                     तो क्या  हमें इससे कोई शिकायत होती ?

                                                ख़ुशी  के चंद  लम्हें  भी मिल जाते तो ,

                                                       तो ”मैडम ! ” बड़ी इनायत होती।

                                                  यह हमारी  दीवानगी  कि हद  है ,

                                                             या  इश्क़  कि  इंतेहा कह  लीजिये।

                                                   लिख डाला  हमने  यूँ ही यह ” प्रेम-काव्य ”,

                                                             कृपया  इसे पढ़ लीजिये।

Leave a Reply