देखो आयी होली रे

 

 

द्वेष क्लेश भय सभी मिटाने, देखो आयी होली रे |
आयी सबको गले लगाने, रंगों की ये डोली रे ||

 

रंगे हुए हैं सबके चेहरे, हर दिल में हरियाली है,
संग श्याम के आज झूमती, हर राधा मतवाली है |
माथे पर गुलाल रच आयी, मस्तानों की टोली रे,
आयी सबको गले लगाने रंगों की ये डोली रे ||१||

 

आज नहीं दुश्मन है कोई, खरा न कोई खोटा है,
आज नहीं दीवार है कोई, और न कोई छोटा है |
हर घर में यूँ गूँज रही है, एक प्रेम की बोली रे,
आयी सबको गले लगाने रंगों की ये डोली रे ||२||

 

इसी भांति प्रेम का दीपक, सबके दिल में जला रहे,
इसी भांति देश में अपने हर दिन होली जवां रहे |
देखो कहीं न छूटे हमसे यह मधुरिम रंगोली रे,
आयी सबको गले लगाने रंगों की ये डोली रे ||३||

 

— दीपक श्रीवास्तव

holi

One Response

  1. acharya shivprakash awasthi acharyashivprakash 09/03/2014

Leave a Reply