हम हिन्दोस्तानीयों का दिल (व्यंग्य कविता)

                   हम    हिन्दोस्तानी   बड़े   भावुक   होते हैं  जी ! ,

                                 हमारे  भी   सीने   में    है  एक धड़कता  हुआ दिल।

                                 सुबह  अखबार  में   जब मिलती  है  कोई  हादसे कि खबर ,

                                  तो    एक  ”  आह ”  से भर  जाता है   यह   दिल।

                                  सड़क पर पड़े  घायल  इंसा  को कर  देंगे  नज़र-अंदाज़,

                                  तो क्या हुआ  !  ”बेचारा ”   उसे  कह  तो देता है  दिल।

                                  किसी  लड़की  को  कोई छेड़े  तो  कन्नी  काट लेते हैं ,

                                  मगर  बलात्कार की  वारदात से  काँप  जायेगा  दिल।

                                   क्रिकेट   में  जीत कर आयें  खिलाड़ी  तो  सर आँखों पर ,

                                   हार   जाएँ  तो  उन्हें   कोसने  से  बाज़  नहींआएगा यह दिल।

                                   हम  थोड़े  मासूम भी  है तभी  तो  बहक जाते  ”उनके” वायदों से ,

                                   मगर जब खुलती है हमारी आँखें ,तो डर  जाता  है ”उनका  दिल”।

                                   हंगामें  करना ,  पुतले  फूंकना , धरने  देना  और   आगजनी ,

                                   कुछ  तो  करना  है ना !  तो  गरमा-गरम  मुद्दे  ढूढता  है यह दिल।

                                    हम   इन्केलाब  लाना तो चाहते है    मगर  क्या” इस तरह”?

                                    हम  हिन्दोस्तानी बनते हैं बड़े दिलवाले ,  क्या  है  हमारे  पास दिल ?

One Response

  1. ashutosh 08/03/2014

Leave a Reply