गधों के

गधों के मौहल्ले में
सु-प्रसिद्ध गायक आया
पतझड़ में बहार लाया
गीत गाया
सुर ताल मिलाकर
‘माफ़ करियो
मैं खड़ा हूँ
अजनबी डगर में ‘
सुनते ही गीत
भड़क उठे
मोटे तगड़े पहलवान
करने महाभारत संग्राम ,
तभी दुबले पतले
महामूर्ख गधे ने बाजी मारी
गरजकर चिंघाड़ा
खामोश ठहरो जरा
क्या करते हो ?
धुंध में लंगोटी कसकर
अखाडा दिखाते हो !

Leave a Reply