गधे को लव हो गया

उफ़ :ओस क्यों ?
पत्तों पर
धाक जमाती
गुस्सा दिखाती !
मेरी पलकें भींगकर
सुबह की बारिस में
देखती मौसम की अँगड़ाईं,
कहीं चोरी से
छुपके समीर
मेरे कानों में
बड़बड़ाकर कहती जाती
भाई तुझे पता है
गधे को
विश्व सुंदरी गधी से
प्यार हो गया है
सारे अखबार पत्रिकाएँ
चर्चाओं से
भरे हैं
गलिओं ,मौहल्लों ,चौराहों पर
आवाजें गूँज रहीं हैं
यानि वह गधा
आदमिओं से महान बेमिसाल है !
मैं तिलमिलाया घुमाकर हाथ
बतिआया ,चिल्लाया
क्यों रे ?
क्या हो गया तुझे ?
कैसे कर लिया प्यार
गधी से !
गधा मुस्कुराया बोला ,
श्रीमान जी आप करलो
गधी से प्यार !
मैं शर्माकर सिमटगया
झुकगया !

Leave a Reply