आखिर क्यों ?

 आखिर  क्यों ?   (   कविता)

                                  पुरुष   क्यों  होता  है  इतना  कृतघ्न ,

                                  जिसे नज़र नहीं आते ,

                                  नारी  के उपकार ,

                                उसकी भलाई ,

                                  उसका प्रेम ,

                                उसकी सेवा,

                                   सहनशीलता ,कर्तव्यनिष्ठता।

                                 वैसे  तो पुरुष  को ही  लेनी  चाहिए  शिक्षा ,

                                   इन सब  सदगुणो कि ,

                                   नारी से। ,मगर  नहीं !

                                    क्योंकि  पुरुष  होता है अहंकारी।

                                    नारी  के समक्ष  उसे झुकना

                                   उसे पसंद नहीं।

                                      विनम्रता   का      अर्थ  ही है झुकना ,

                                      फिर  कैसे   होगा   मंज़ूर ?

                                       मर्दानगी   पर  आंच  आने का जो  भय है।

                                     अहंकारी  है तभी तो  नहीं  दिखते ,

                                        नारी के गुण।

                                       यदि   देख  सकता  तो  ,

                                       खुद कि नज़र  में    छोटा   नहीं हो  जाता।

                                      पुरुष   अहंकारी होता है ,

                                       तभी   तो संवेदन शील  नहीं होता ,

                                         नारी कि तरह ,

                                        जो उसे   किसी  कि पीड़ा, आह ,दुःख, संताप ,वेदना

                                         महसूस हो।

                                         किसी   आंसू  के   पीछे  छुपे  दर्द  का  एहसास  हो ,

                                          किसी की    निशब्द  चीत्कार  कि समझ  हो।

                                          वोह उम्मीद  तो करता  है  कि  नारी उसे  समझे ,

                                            मगर ज़रा कोई उससे पूछे ,

                                              उसने कितना नारी को   समझा।

                                               क्योंकि  गर्ज़मंद  है नारी ,

                                             आर्थिक  रूप से  न सही ,

                                              भावनात्मक रूप  से ,

                                               उसपर   निर्भर है  नारी।

                                             इस आधुनिक युग में भी !

                                               पुरुष  अहंकारी  है ,

                                            अतः  उसे  ज्ञात  है ,

                                              वोह गर्ज़ मंद   नहीं  है ,

                                             वोह निर्भर भी नहीं है ,

                                              इसीलिए वोह क्यों  करे प्रयास ?

                                                नारी कि नज़रमें उठने का  ,

                                                अपने  सम्बन्धों  में   आई दूरियां  मिटने का ,

                                              नारी के ह्रदय  में स्थान बनाने का ,

                                              सिर्फ  नारी को ही है  गरज़ ,या ज़रूरत ,

                                               पुरुष के नाज़  उठाने का ,

                                               पुरुष को  तो  क्षमा  मांगनी भी नहीं आती ,

                                                ज़रूरत  नहीं है न !

                                               यह  शब्द  भी नारी के लिए ही बना है।

                                                नारी  को  फिर  भी देना  है उसे  सम्मान ,

                                                  भले ही वोह इसके  योग्य हो   या ना  हो।

                                                    क्योंकि  वोह पुरुष  है  .

                                                इसीलिए वोह   गरजमंद  नहीं ,

                                                 अधिकारी   है।

                                                  वोह अधिकारी है ,

नारी कि  सेवा का ,

                                                  त्याग का ,

                                                 समर्पण का,

                                                 निष्फल  कर्तव्यों का ,

                                                   प्रेम का ,

                                                 सहनशीलता का ,

                                                  पुरुष इतना  अहंकारी क्यों है ?

                                                  पुरुष  अधिकारी  भी क्यों है?

                                                  क्यों   किया   विधाता  ने  इतना अंतर ?

                                                    आखिर    क्यों ?

Leave a Reply