हार और जीत

इस एक हार से खुद को इस कदर न निराश करो ,

जीत मिल जायेगी देर सबेर एक और प्रयास करो |

 

एक हार से जिंदगी नही रुक जाती है,

सच है कई मुश्किलों के बाद ही मंजिल मिल पाती है |

 

तुम हर पल हर वक़्त यु मायूसी की ना बात करो ,

जीत मिल जायेगी देर सबेर एक और प्रयास करो |

 

हार दोस्त है तुम्हारी जो जितना सिखाती है,

एक लम्बी रात के बाद ही तो नई सुबह आती है |

 

राजा और मकड़ी की गाथा का मन में अहसास करो,

जीत मिल जायेगी देर सबेर एक और प्रयास करो |

 

हार एक मशाल है जो राह दिखाती है ,

हार के कदमो पर चलकर ही तो जीत द्वार पे आती है |

 

ना छोडो उम्मीदों का दामन फिर से नयी आस करो ,

जीत मिल जायेगी देर सबेर एक और प्रयास करो |

 

हार एक दीया है जिसमे उम्मीदों की बाती है ,

जब कोशिशो का तेल डालता है तभी रौशनी मिल पाती है |

 

‘विशाल’ की इन बातो पर दिल से विश्वास करो ,

जीत मिल जायेगी देर सबेर एक और प्रयास करो |

विशाल सर्राफ धमोरा

Leave a Reply