अकड़म बकड़म…….

अकड़म बकड़म चुनाव का चक्रम ,
फेकू गए है भोपालपटनम ,
इकडम तिकड़म भ्रस्टाचार का जकडऩ ,
पप्पू पर पड़े ओले बेमौसम .
कुछ कम कम,कुछ बम बम ,
फिर भी सभी में हमी हम .
टन टना टन,टन टना टन ,
आज भी होता बेटी का अपहरण .
दम दमा दम, दम दमा दम ,
बड़ा है झोल निर्मल का समागम .
ईस्टम वेस्टम कलंकित कृत्यं ,
बापू है अंदर,BETA भी लपेटम.
अटकन बटकन दही का चटकन ,
दुश्मन घुस के करे भरतनाट्यम .
बुटरूस फूटरस चीनी ललकारम ,
फिर भी पाजी का मौन धारणं .
भूकम गरिबं, 65 का देशम ,
पर आज हुआ खाद्य बिल का आगमन .
अपलम चपलम देश निराशम ,
हुआ खुदI जो क्रिकेट से रिटायरम.
आए कई हकले, हुआ कोई बेशरम,
फिर भी सलमान फुल्टू दबंग.
रप्टम सप्तम भालू का उप्टम ,
आज पचा है लालू का चारम.
पटकम् पटकम् सिर को पटकम् ,
मेहेंगा आंसू प्याज निकालम.
कालम धनम देश डुबायम ,
फिर भी मेरा भारत महानम .

Nitesh singh(kumar aditya)

Leave a Reply