गजल

अपनो ने ही दी खुशी

अपनो ने ही दिया गम

फिर अपनो ने ही बहुत रुलाया

खैर उनकी भी क्या गलती थी इसमें

दुनिया का जो उसूल है, उन्होनें बखूबी निभाया

लेकिन हम ना कहेंगे कि वो बेवफा है

क्योंकि हमने उनसे प्यार किया है

वो चाहे जितने करें जुल्म, जितने करें स्तिम

हम तो फिर भी चुप रहेंगे सुनकर उनका हर कथन I

Leave a Reply