चयन

चुन नहीं सका
अभी तक
जीवन और मृत्यु के बीच

उसके आगमन से
लगता था
वह सम्पूर्ण जीवन है
वह जीवन का आनन्द है
उसका आह्लाद है

जीवन और मृत्यु के बीच
समय ने बनाना चाहा
शाश्वत प्रेम का सेतु

जीवन में उसका ठहरना
और निरन्तर रहना
सम्पूर्ण जीवन का आभास देकर
अचानक उसका चले जाना

देकर मृत्यु का एकान्त
उसकी निर्जनता
उसकी भव्यता

अब, कितना आसान है
उसके प्रस्थान से
चुनना जीवन और मृत्यु के बीच।

Leave a Reply