हुकुमत कौन करता

सुरज न देर से आती
न भागने कि इसे जल्दी है
हुकुमत कौन करता
किसका गुलाम है ये

बहारों मे फूल खिलते
पत्झड मे सुख जाती
हुकुमत कौन करता
किसका गुलाम है ये

ठन्डी बढी कभी गर्मी
मौशम बदलते रहते
हुकुमत कौन करता
किसका गुलाम है ये

हिमालाय पिघल पिघल के
नदियाँ बन के बहती
हुकुमत कौन करता
किसका गुलाम है ये

हवायें बहती क्यो है
फूलो से सुगन्ध क्यो है
हुकुमत कौन करता
किसका गुलाम है ये

बादल क्यों बरसते
बिजली क्यो कडक्ती
हुकुमत कौन करता
किसका गुलाम है ये

किसने बनाया ये धर्ती
आशमा बनाया किसने
हुकुमत कौन करता
किसका गुलाम है ये

हरि पौडेल
नेदरल्याण्ड

Leave a Reply