रोते दिल की आवाज

सोचते-सोचते सोच रहा हूँ ।
क्या हाल होगा आपका ?
तन्हाई में तड़फ रहा होगा दिल आपका।
रुकी हुई है मेरी साँसे
रुका हुआ है दिल मेरा ।
इतनी दूर आप चली गई है
क्या करे दिल बेचारा ?
हमें पता न था, आएगा एक दिन ऐसा ।
बता तो दिया होता
गुनाह किया है हमने कैसा ?
हम चाहते है आपसे मिलना ।
क्या है मेरे दिल का हाल ?
हमें सब कुछ है आपसे कहना ।।
बह रहा है आँखों से दरिया
आकर इसे रोक लो
कहीं निकल ना जाए मेरी रूह मेरे जिस्म से
एक बार आकर हमें देख लो
हर एक सांस से निकल रहा है तेरा नाम
हर एक धड़कन पुकार रही है तेरा नाम
हम चाहते है हंसना आपके साथ
हम चाहते है खिलखिलाना आपके साथ
हम फिर से डूब जाना चाहते है उन
मस्ती भरी राहों में
मस्ती भरी निगाहों में आपके साथ
और एक आप है
जो हमें रुलाए ही जा रही है, रुलाए ही जा रही है !

Leave a Reply