संघर्ष का पथ

संघर्ष का पथ

 

काली अँधेरी रात,

हो रही घनघोर बारिश,

कड़कती बिजली के बीच,उफनाती गंगा में,

अगर ढूढ़ना पड़े, तुम्हें अपना पथ ,

तो पकड़ना तुम,

संघर्ष का पथ ,संघर्ष का पथ ।

 आग उगलती गर्मी में,

रेगिस्तान के बीच,

मृगमारीचिका के पीछे भागते हुए,

अगर ढूढ़ना पड़े, तुम्हें अपना पथ,

तो पकड़ना तुम,

संघर्ष का पथ,संघर्ष का पथ ।

 पूष की रात,

हाड़ मांस को गलाती ठंड ,

पार करनी है बर्फ की नदी,

अगर ढूढ़ना पड़े,तुम्हें अपना पथ,

तो पकड़ना तुम,

संघर्ष का पथ, संघर्ष का पथ ।

समय हो चाहे बहुत विपरीत ,

रास्ते भी हों ऊबड़ खाबड़,

पड़ी हो आग की ज्वाला,चारो तरफ,

निकल जाना जीतने के लिए,

पकड़कर तुम अपना,

संघर्ष का पथ,संघर्ष का पथ ।

  तेज तुम्हारा कम ना हो,

मुस्कुराहट कभी जाए नहीं,

ललकार तुम्हारी हो ऐसी,

की बन जाए अपने आप ही,

तुम्हारी जीत का पथ,

संघर्ष का पथ,संघर्ष का पथ ।

  

One Response

  1. rakesh kumar राकेश कुमार 27/06/2014

Leave a Reply