उथल- पुथल कौन करेगा

उथल -पुथल कौन करेगा
कौन लड़ेगा
सत्य लड़ाई
भ्रष्टाचार तहस -नहस कर
सुख ,शांति और समृद्धि
कौन फैलाएगा
भारत में!
देश मेरा
कुछ बोल रहा है ,
रो रही है
भारत माँ
किंतु निठल्ले ,बेईमानों ने
निर्दई हीन भावनाओं से
चोट जड़ी है
तगड़ी सी,
उदय हुआ सूरज भी
शर्मसार देख रहा है
थूकता भ्रष्टाचारों पर!

Leave a Reply