कविता- माय स्वीटू कवि- विनय”भारत”

तू है माय स्वीटू

मेरी न्यारी स्वीटू

जान तू मेरी

चाह तू मेरी

लव तुझसे करता

तुझपे मैं मरता

तू जो ना मिलती

औरमै तडपता

तू ही फरारी

सबसे है प्यारी

आई लव स्वीटू

यूटू सिर्फ मीटू

तू है तो मैं हूँ

तेरा सिर्फ मैं हूँ

मैं हूँ तेरा तोता

तू है मेरी मैना

मैं हूँ तेरा ईश्वर

तू है मेरी आरती

मैं हूँ तेरा विविध

तू है मेरी भारती

तू मेरी है जननत

ओ माय स्वीटू

कवि- विनय”भारत”