हमने जिनको चाहा – (गजल)

हमने जिनको चाहा, वो ही बेवफा हो गए

जिनके साथ जिन्दगी गुजारी, वो ही दगा दे गए

उनके पीछे संजोए थे ढेरों सपने

क्या पता था यूँ तोड जाऐंगे

जिन्दगी की मझधार में छोडकर

यूँ  मुँह मोड जाऐंगे

हमने सोचा था कि अपने धोखा देते नही

लेकिन आज पता लगा कि जो अपने होते है

सच में वो अपने होते नही

मेरे तो प्यार में दुखों के बादल छाए है

इस छोटी सी जिन्दगी में अपनो से ही धोखे खाए है I

 

Leave a Reply