कैसे संवरे भारत कि तस्वीर (ग़ज़ल)

     कैसे संवरे  भारत  कि तस्वीर  (  ग़ज़ल)
                     हंगामें तो   रोज़ ही  खड़े   होते हैं  मगर  
                      जाने  क्यों   सूरत  फिर भी नहीं  बदलती।
                            कुछ भी  कर लो जतन  मगर  हाय !
                            इस मुल्क   कि तक़दीर नहीं बदलती.
                            एक   क़दम  बढ़ाना  भी  हुआ   मुश्किल,
                    इसकी  सरज़मीं  अब  आग है   उगलती।
                            शराफत  का नक़ाब  ओढे  रहता हर इंसा ,
                            यूँ  उसके  अंदर  हैवानियत  है  सदा  पलती।
                           समझकर खिलौना बेक़सूर, बेबस जिंदगी को ,
                            किस  कदर  शैतानो कि नियत है बदलती।
                          थक  भी जाएँ  कानून और इंसाफ  से झूझते ,
                            जंग  यह  किसी इन्केलाब  को  नहीं  बुलाती।
                            ऐ चमन  के फूलों-कलिओं !बन जाओ अब शोले ,
                           इस गुलिस्तां से तुम्हारी हिफाज़त की  नहीं जाती।
                           कैसे  संवरे   आखिर  भारत  कि  धुंधली  तस्वीर ,
                           रंग -ऐ-जोश में  किसी भी  लिहाज़ से नहीं  ढलती।

2 Comments

  1. सुनील लोहमरोड़ सुनील लोहमरोड़ 03/02/2014
    • Onika Setia Onika Setia 04/02/2014

Leave a Reply