खिलती कलियाँ ‘

‘ खिलती   कलियाँ  ‘

रंगबिरंगी   खिलती  कलियाँ,

गूंजे  भँवरे  उड़ती  तितलियाँ ,

सूर्यकिरणे  अब  फैल  गईं ,

कलियों   का  घूंघट  खोल गईं 

कलीकली   को  देख  रही ,

देखदेख  कर  हंस  रही,

मस्त पवन  का झोंका  आया ,

मीठे  सुर  में  गीत  सुनाया,

डालीडाली  लगी  लहराने,

क्या  मस्ती  भी  लगी छाने ,

देखदेख मन  लुभाया ,

कली –कली का मन इतराया,

कितनी  कलियाँ एक  बगीचा ,

माली  ने  सब  को  है  सींचा,

सींचसींच  कर बड़ा  किया ,

कलियों ने मन हर  लिया ,

ए माली  मत  हाथ  लगाना,

कुम्हला  न  जाएँ  इन्हें  बचाना,

कली को फूल  बदलते  देखो  ,

महकते फूलों की फुलवारी  देखो |

………………………………………………………………………

 

Leave a Reply