पसीने का रोना

तरह-तरह के सेंट
तरह-तरह के परफ्यूम
भाँति-भाँति के डियो की धूम

अनगिनत रंग-बिरंगी पत्रिकाएँ
रेडियो-टीवी-इंटरनेट-अख़बार
हर जगह मेरे खिलाफ़ इश्तहार

अपनी गंध के लिए लड़ता मैं अकेला
मेरे खिलाफ़ इतना बड़ा मेला

Leave a Reply