बनाऊंगा बढ़ाऊंगा देश

हिंदोस्तान कि ख़ातिर , मर जाऊंगा मिट जाऊंगा ,
ये है मेरा देश इसे , बनाऊंगा बढ़ाऊंगा |
हिंदोस्तान कि ख़ातिर …………..

पहले पृथ्वी , चन्द्रगुप्त , अक़बर ने इसे सम्भाला ,
फिर भगत , बापू , नेहरू ने , अंग्रेज़ों को निकाला ,
बोले नेताजी खून दो , आज़ादी मैं दिलाऊंगा ,
ये है मेरा देश इसे , बनाऊंगा बढ़ाऊंगा ,
हिंदोस्तान कि ख़ातिर …………….

तमिल तेलुगु मलयालम , बंगाली गुजराती ,
हिंदी असमी और डोगरी , पंजाबी , मराठी ,
सब भाषा में राग एकता , गाऊंगा गुनगुनाऊंगा ,
ये है मेरा देश इसे , बनाऊंगा बढ़ाऊंगा |
हिंदोस्तान कि ख़ातिर ……………..

त्यौहार ये ईद-दीवाली , सबको मिलना सिखावे ,
क्रिसमस , गुरुपर्व को सब ,लख-लख बंधाई गावें ,
होली पे सबको गुलाल , लगाऊंगा रंगजाउंगा ,
ये है मेरा देश इसे , बनाऊंगा बढ़ाऊंगा |
हिंदोस्तान कि ख़ातिर ………………

मुझको मौका मिले आज ग़र , एक काम है करना ,
सैनानी बनकर सीमा पर , जा हुंकार है भरना ,
समय पड़ा दुश्मन के छक्के , छुड़ाऊंगा दौड़ाउंगा ,
यह है मेरा देश इसे , बनाऊंगा बढ़ाऊंगा |
हिन्दोस्तान कि खातिर …………….
मुकेश गुजेला “बघेल”

One Response

  1. सुनील लोहमरोड़ Sunil Kumar Lohamrod 28/01/2014

Leave a Reply