देख लेना

मंजिल खुद बिखेरेगी रोशनी,
धुंधली आँखें साफ करके देख लेना।

हिम्मत रखना हमेशा अपने साथ,
हिम्मत काम बनती है आजमा कर देख लेना ।

जब कोशिश करते करते थक जाओ तो,
मुकाम मिल जायेगा एक और कोशिश करके देख लेना।

तूफानों का कहर तो हर राह पे मिलेगा राही,
जितनी मर्जी रहें बदल कर देख लेना ।

आगे बढ़ते रहने से ही हासिल होते हैं मुकाम,
एक नेक राह पर निरंतर चल कर देख लेना।

गिरकर हार मानने वालों पर ही हंसती है दुनिया,
दुनिया सलाम करेगी गिरने के बाद संभल कर देख लेना।

बहारें भी चमक खो देती हैं अपनी,
यकीं न हो तो कोई खुबसूरत तस्वीर पलट कर देख लेना।

बेबसी और मज़बूरी तो बहाने हैं कायरों के,
फतह करनी है तो सबसे आगे चलकर देख लेना ।

आसमां भी झुक जायेगा तुम्हारे सामने,
कभी हौसलों की उड़ान भरकर देख लेना ।

गुलाब हमेशा खुशबु ही बिखेर करते हैं,
जितना चाहो उसे मसलकर देख लेना।
——–

Leave a Reply