ब्रह्मचारी

कल रात रस्ते मे मैने देखि एक नारी
वह थी जैसे मीरा कोई एक ब्रह्मचारी

मारा गया मै तो दिल लगा कहा पर
गेरुवे बस्त्र मे भी लगती बहुत ही प्यारी

हरे कृष्ण कहते हुए पास से जो गुजरी
देखता रहा उनको और बन गया भिखारी

कैसे जोगन को बताउँ मै बनजाउं जोगी
भजन करे कृष्ण कि और बने मेरी दुलारी

माया मोह त्याग कर छोड़ चले दुनियाँको
मै प्रीतका मारा और वह है दुःख कि मारी

हरि पौडेल
नेदरल्याण्ड
१६-१२-२०१३

Leave a Reply