अलबिदा

जहर पिने का मजा और है
जब उनकी नजर से इसारा मिले
वैसे मौत कि खौफ है किसे
बस उनकी गोदका सहारा मिले

हम तो आए ही है डूबने
चाहे हो कुँवा या हो सागर
तूफान के साथ हम बहते चले
उनको उनका किनारा मिले

दूर ही सही वो चाँद तो है
सुकून है मुझे जन्नत जैसी
नजारों मे खेलना शौख हो उन्हे
उनको उनका सितारा मिले

चलो करते अब अलबिदा उनको
बस दीदार हो चिराग बुझने तक
मिले नही इस जनम मे सही
अगले जनम मे दुबारा मिले

हरि पौडेल
नेदरल्याण्ड
०५-१२-२०१३

Leave a Reply