काणा कऊआ (हिमाचली कविता)

अंगणा द्वारे बैठया इक काणा कऊआ
लगया फरमाणे अउया अउया |

जिगलू री अम्मा अंगणे आई
देखी कउए जो गलाई
कऊआ कऊआ हुर हुर हुर
ना जाणे क्या फरमाउदा
लगदा आज कोई प्रौणा आऊदा |

काणा कऊआ बड़ा चलाक
छडी गांह जाई बैठया पचांह |

सुण ओए जिगलू , पकड़ ले गिटड़ू
जाची सिस्त भगा दे कऊआ |

जिगलू आया गिटडू उठाया
लेई के सिस्त नशाणा लगाया
काणा कऊआ उड़ी गया भईया|

जिगलू राजा हवा च उडया
नि अम्मा देख नशाणा मेरा
कऊआ छडी अऊआ अऊआ
गया ग्लान्दा मरीगऊआ मऊआ मऊआ |

गोडा पुछाड़े सुणया इक धमाका
डरदे कम्बदे जिगलू अम्मा दौड़े
पुजी पुछाड़े लगी गे होश ठकाणे
जिगलू रा बापू पेइरा पिट प्राणे
लगया रड़ाणे रे मऊआ मऊआ मरीगऊआ|

पकड़ी लक्का, जिक्की ढ़न्ढोरे किल्ल्दा उठया
देखी टबरा जो पूछया :
कुसो सुझी मत तिने जे गिटडू मारया ?

आऊँ था जी बापू; जिगलू |
जिगलू रा नी कोई दोष; अम्मा बोली
अंगणे था बैठया इक काणा कउआ
था लगी रा करने अऊआ अऊआ
देखी तिसो था मारया गिटडू
जिगलू जो क्या था पता जे
हुई जाणा तुसां रा ही मऊआ मऊआ
खांदा मुक्काणी से काणा कउआ |
kkkk

Leave a Reply