sahyri

परों से बाधकर खत परिदों के उडा दिये हमने
अब दुआ ये, उनके काधे पे वो जा बैठें।

Leave a Reply