shayri

इक ख्बाब जो रेषम सा बुन दिया
उसने मेरी पलको पर
मैं सोचता हू उठाके निगाहें
अब देखने को बचा क्या है।

 

Leave a Reply