वाह! रे आदमी – कवि- विनय “भारत”

वाह रे वाह आदमी

तेरा खेल निराला है

आदमी से तुझे प्यार नहीं

और तूने कुत्ता पाला है

कवि- विनय भारत

Leave a Reply