प्यार के कुछ पल अहसास के” -कवि- विनय भारत

दिल ने याद किया है तुझे

सोंचता हूँ

तुझेहिचकी

आई तो होगी

रातें काली गुजर गई

मेरी यहाँ

सोंचता हूँ

तुझे भी क्या नींद

आयी ही होगी

सपने में देखी थी

तेरीबैचेन सी झलक

सोंचता हूँ

तू भी मिलने

आयी तो होगी

रचनाकार- विनय भारत