वक्त बूँदों के उत्सव का था

वक्त बूँदों के उत्सव का था
बूँदें इठला रही थी
गा रही थीं बूँदें झूम – झूम कर
थिरक रही थीं
पूरे सवाब में

दरख्तों के पोर – पोर को
छुआ बूँदों ने
माटी ने छक कर स्वाद चखा
बूँदों का

रात कहर बन आयी थी बूँदे

सबेरे चर्चा में बारिश थीं

बूँदें नहीं

Leave a Reply