मज़े में हैं सारे

मज़े में हैं ईश्वर सारे
ब्रह्मांड के ज्ञात-अज्ञात सहचर
कीट-पतंग, अंधे-बहरे
बाबा-भिखारी, ग्रीष्म और शरद
माउस की-बोर्ड
प्रेमी युगल
साँसें धड़कनें
पत्ते टहनियाँ
शब्द मुहावरे
सुख दुख
स्वर्ग नरक
समुद्र हवा
उम्मीद और सपने सारे
मज़े में हैं
कविता परिवार का हिस्सा होने से!

Leave a Reply