मै कोई गीत गाना चाहता हूँ

मै कोई गीत गाना चाहता हूँ

साध सकता क्या सुरों को-

आजमाना चाहता हूँ    ………………… मै कोई गीत…………….. ।

फगवा गाऊँ,

कजली गाऊँ,

सोरठ गाऊँ,

ये गाऊँ या वो गाऊँ।

कोई मिलन का गीत गाकर,

तुमको सुनाना चाहता हूँ ………………… मै कोई गीत…………….. ।

फटा बाँस सा कंठ मेरा,

गर्दभ जैसा स्वर उच्च मेरा।

संगीत की नहीं की साधना,

नहीं की बागेश्वरी की आराधना।

साथ तेरे कोई गीत,

गुनगुनाना चाहता हूँ ………………… मै कोई गीत…………….. ।

2 Comments

  1. gopi 02/01/2014
    • Jayanti Prasad Sharma Jayanti Prasad Sharma 16/01/2014

Leave a Reply