रहना था हमको साथ

रहना था हमको साथ मगर दूर हो गये,
किस्मत ने ना दिया साथ मजबूर हो गये।
हमने ना की कोई जफा पर नहीं पाई बफा,
वडे अरमान से दिल हमने दिया था तुमको सनम ओ बेबफा।
बेबफाई तेरी से हम खुशियों से महरूम हो गये…… किस्मत ने ना दिया…… ।

रहना नहीं था साथ तो क्यों प्यार किया था,
साथ जीने मरने का इकरार किया था।
चाहत में तेरी हम बदनाम बेकसूर हो गये         …. किस्मत ने ना दिया……..।

आपने ही हमको अपना ना बनाया,

नहीं पूछी कभी बात न दिल से लगाया।
है बक्त की यह बात हसी मगरूर हो गये …………….. किस्मत ने ना दिया………।

तेरी हसीन मूरत दिल में मेरे रखी है
तेरे बदन की खुशबू मेरी साँस में बसी है,
हम आशिक तेरे नाम से मशहूर हो गये…… ………. किस्मत ने ना दिया……..।

Leave a Reply