जवानी

हाल तो प्यार में सभी का अजब हुआ करता है I
दिल का लगाना तो जनाब गजब हुआ करता है I
न पूछो हाल कोई अब इन बावले मस्तानों का,
प्यार ही इन दीवानों का, मजहब हुआ करता है II

लहराता बल खाता एक समंदर हुआ करता है I
आँखे कहती है,जो दिल के अंदर हुआ करता है I
जीत लेता है दिल की बाज़ी जो इश्क़ में यारों,
वही तो बस मुकद्दर का सिकंदर हुआ करता है II

दिल में, तो किसी को नैनों में बसाना हुआ करता है I
शर्म दिल में, और होठों पे कोई बहाना हुआ करता है I
करते ही बंद पलकें, छा जाती है तस्वीर धुंधली सी,
बचपन का जाना,यही जवानी का आना हुआ करता है II
_______________________________________
त्रुटि हेतु क्षमा प्रार्थी – गुरचरन मेहता

One Response

  1. Rohit pandey (Rinkal Bhai) 10/08/2015

Leave a Reply