पैसा-यह-पैसा-व्यंग कविता

पैसा  यह  पैसा  (   व्यंग –   कविता )                                                                                                                                                                                                                                                                                                                पैसा  यह    पैसा

पैसे  में   है  भई ! बड़ी  जान।                                                                                                                                                                                                                                                                                                      गरीबो  केलिए  यह मज़बूरी ,                                                                                                                                                                                                                                                                                                         और अमीरों  केलिए शान।                                                                                                                                                                                                                                                                                                                  पूछा  मुझसे  किसी ने  एक

       ”  ऐ  दोस्त ! हमें यह बतलाओ ,                          

होता है  यह क्यों गोल ?  या फिर  ,

कागज़    समझाओ ”

हमने कहा  ”भईआ ! यह तो माया है।

गोल   हो या कागज़ कि  बनी यह ,

एक चंचल  छाया है।

गोल  है   तभी  तो हो  गतिशील ,

कागज़  के हरे-भरे  नोटों के संग ,

रहे कभी  हिलमिल।

दोनों   के दोनों  में  है  कुछ  तो

खास  बात।

                         इसकी झोली से   उसकी झोली में ,

             उसकी  झोली  से  इसकी झोली में ,

         सफ़र करे  यह लगाकर  घात।

                नहीं   है  इस  माया का  कोई ,

                 ठौर -ठिकाना।

     एक  तो मंज़िल नहीं इसकी ,

        जहाँ मिले  सौभाग्य ,

       माँ  लक्ष्मी  के  संकेत  मिले जहाँ ,

   इसने  तो वहीँ  है  डेरा  जमाना।

     यह  है एक पहेली  ,

         कोई न समझ सका  इसे आज तक।

         न ही   इसका  कोई राज़ किसी ने है  जाना।

     मिलना  तो कभी  छप्पर -फाड़ कर ,

         या   खोना  तो   एक पल   में   लुटिया  डुबो  देना।

     मिलना  और खो जाना  यही तो  इसकी प्रकृति है

     कभी   तो फाका  खाना  ,

  तो कभी  जीवन   में मस्ती  ही मस्ती है।

      सब इस माया कि वजह  से।

        अमीरी  और गरीबी  के  बीच  कि

    यही तो खाई  है।

        मिल जाये यह ईमानदारी  से ,

     ऐसी   तबियत  भी  कहाँ इसने पायी  है।

अमीर  नचाये इसे ,

           और   गरीबो  को  नचाये यह  है  ऐसा।

  यह  पैसा  है  भई  पैसा !

Leave a Reply