बेवफ़ा तेरे लिये गीत

जितना भुलाओगे मैं,और याद आऊँगा ,
उम्रभर इस तरह से,तुम को सताऊँगा ।
जितना भुलाओगे……..

तुमने सदा ही ज़ानम,प्यार को इक खेल समझा,
हमने इसे कसम से , दो दिलों का मेल समझा,
उन मेल के पलों की, याद मैं दिलाऊँगा ,
उम्रभर इस तरह……..

हसीं मंज़िलों का ख़्वाब,दिखा तूने मैं छला हूँ ,
तेरे जैसे हमसफ़र से ,बिना हमसफ़र भला हूँ,
उन मंज़िलों को पाकर, तुझको दिखाऊँगा ,
उम्रभर इस तरह……..

मतलबी है ये ज़माना ,रोज हमसे तुम थे कहते,
तुझसे मतलबी के सारे,नाज़ हँसके हम थे सहते,
बेवफ़ाई का है मतलब,क्या तुझे सिखाऊँगा,
उम्रभर इस तरह……..

ग़ीतकार- मुकेश गुजेला “बघेल”

Leave a Reply