बस विनाश हीँ विनाश हो

म्रत्यु का अब हो तांडव
धरती मेँ हो चाहे भुचाल
सागर मेँ हो जाए उफान
बस विनाश हीँ विनाश हो

इच्छा अब बस है मेरी
आँखे टिकी हुई है मेरी
मन की हठ भी है मेरी
बस विनाश हीँ विनाश हो

पाप का घड़ा है भरा
रिश्तोँ से अब मन भरा
स्वार्थ से है जग भरा
बस विनाश हीँ विनाश हो
………..

Leave a Reply