बिटिया….

लाल लाल लहँगे मेँ लाली से बिटिया
चुन्नी उड़ाती चंचल सी तेरी बिटिया
आँचल मेँ सिमटे तेरी छुईमुई बिटिया
भाईया को छेड़ती प्यारी सी बिटिया
लक्ष्मी सी लागे मुझे तेरी वो बिटिया

जग करता इंतजार अपनी दिवाली का
रोज दिये घर मेँ जलाती वो बिटिया
भाईया संग पटाखे चलाती है बिटीया
खुशियोँ की फुलझरी फैलाती बिटिया

रोज दीवाली घर मनाती है बिटिया
रोज दीवाली घर मनाती है बिटिया

One Response

  1. gopi 14/12/2013

Leave a Reply