भूल नहीं सकता

क्या कम है क्या ज्यादा भूल नहीं सकता,
मैं अपनी मर्यादा भूल नहीं सकता।

जितना बनता है उतना कर देता हूं,
रहा अधूरा वादा भूल नहीं सकता।

छोटी मोटी गलती हम भी करते हैं,
अपना नेक इरादा भूल नहीं सकता।

चाहे मिले अकूत सम्पदा जीवन में,
मौलिक जीवन सादा भूल नहीं सकता।

वफ़ा बेवफाई दोनों की यादें हैं,
आधा भूला आधा भूल नहीं सकता।

अंधों और आधुनिकता के पाटों में,
कैसे हुआ बुरादा भूल नहीं सकता।

माता पिता साथ में अच्छे लगते हैं,
कृष्ण कहूं तो राधा भूल नहीं सकता।

Leave a Reply